ऑनलाइन गेम्स को भी आईटी रुल्स के दायरे में लिया जाए -श्री जैन

केंद्र सरकार प्रभावी आई टी रूल्स बनाये*

खंडवा। आज सारे देश में कुछ ऑनलाइन प्लेटफार्म है जिनके यूजर्स की संख्या लगभग 50 करोड़ के लगभग हैं, मगर यह स्टार आना ट्यूटर नहीं है इन प्लेटफार्म पर लाखों यूजर्स एक साथ लाइव होते हैं, बातें करते हैं मगर ये फेसबुक व्हाटशाप एक नहीं है यह फेसबुक ट्यूटर की तरह डिजिटल मूड में यूजर्स को जोड़ने वाले गेम प्लेटफार्म सोशल मीडिया इंटरमीडिएटरी की तरह आईटी रुल्स 2021 के दायरे में नहीं आते हैं।

बच्चे गलत उम्र बताकर करते है डाउनलोड

ऑनलाइन गेम्स को भी आईटी रुल्स के दायरे में लिये जाने की मांग करते हुए श्री प्रमोद जैन ने कहा कि आईटी रुल्स में अलग से ऑनलाइन गेमिंग प्लेटफार्म का जिक्र नहीं है जिसका की फायदा आज कंपनी उठा रही है बच्चों को सभी गेम दिखते हैं, वह डाउनलोड कर लेता है बच्चे गेम में गलत उम्र बताते हैं कार्ड से परिवार की चोरी छिपे पेमेंट करते हैं ऑनलाइन गेम्स 3 श्रेणी के होते हैं।

गेम्स के लिए प्रभावी नियम की आवश्यकता

रियल मनी, फैंटसी और कैजुअल। पहली एवं दूसरी श्रेणी में यूजर्स ज्ञान कोशल व जागरूकता से कमाता है। महामारी के दौरान जब विश्व भर में लाकडाउन हुआ तो इस बीमारी का जाल बड़ा जिसे कि आज कहीं बच्चे एवं युवा चपेट में है। किंतु जिम्मेदार व्यक्ति सामने नहीं होता है और गड़बड़ी की जवाबदेही कोई नहीं ले पा रहा है कुछ राज्यों ने नियम बनाए हैं, पर इस तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रभावी आईटी रूल्स बनाये जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!