खरगोन पुलिस ने अंधे कत्ल का किया पर्दाफाश

13 अप्रैल 2022 को थाना बड़वाह पर सूचना प्राप्त हुई थी कि हिन्दुस्तान तौलकाटे के सामने चिरुल के पेड से थोडा आगे एक अज्ञात पुरुष का शव चित अवस्था में पडा है। सूचना प्राप्त होते ही पुलिस टीम तत्काल मौके पर पहुंची और घटना स्थल का निरीक्षण किया जिसमे अज्ञात पुरुष के शव के बाये कान पर बायी आँख पर तथा नाक पर दाहिने तरफ कपाल पर चोटे है एवं पूरा चेहरा खून से लतपथ था। शव के पास मे एक पत्थर पडा है, जिस पर खून लगा है देखने पर हत्या का अंदेशा हुआ।

प्रकरण की गंभीरता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक खरगोन श्री रोहित केशवानी, कमांडेंट 24 बटालियन श्री अंकित जायसवाल के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक खरगोन श्री नीरज चौरसिया, अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) अनुभाग बड़वाह श्री विनोद दीक्षित के मार्गदर्शन एवं थाना प्रभारी बेड़िया श्री प्रकाश वासकले के नेतृत्व मे पुलिस टीम का गठन कर हत्या के आरोपी को शीघ्र से शीघ्र गिरफ़्तारी कर प्रकरण का खुलासा करने हेतु निर्देशित किया गया।

गठित पुलिस टीम द्वारा अपनी पूर्ण दक्षता एवं कार्य कुशलता तथा मुखबिर सूचना के आधार पर साक्ष्य एकत्रित कर अज्ञात मृतक के दाहिने हाथ पर राजेन्द्र RM मंगली गुंदा हुआ था। पुलिस टीम द्वारा पूरे क्षेत्र मे अज्ञात मृतक के हाथ पर नाम की खोजबीन शुरू की गई । परिणामस्वरूप काटकुट फाटा पर एक लडकी का पता चला जो मृतक को जानती थी जिसके द्वारा अज्ञात मृतक की शिनाख्त करने पर उसकी पहचान राजेश पिता संजय भील निवासी सिरलाय नाम के व्यक्ति से की गई।

अज्ञात मृतक की शिनाख्त होने के बाद प्रकरण में उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर पता चला की 12 व 13 अप्रैल की रात को मृतक एवं अनिल भील निवासी काटकुट फाटा बडवाह का आपसी विवाद हुआ था। अनिल एवं उसका दोस्त सुंजु उर्फ टुण्डा जो घटना स्थल चिरुल के पेड के नीच निवास करता है। पुलिस टीम द्वारा दोनों व्यक्तियों का पता लगाने पर दोनों घटना दिनांक से फरार होना पाया गया।

मुखबिरों द्वारा पुलिस टीम को बताया की दोनो भीख मांगकर अपना भरण पोषण करते है। पुलिस टीम द्वारा संदेही अनिल एवं संजु की तलाश बडवाह, सनावद, नर्मदा नदी किनारे, मोरटक्का, नावघाट खेडी, मांधाता में नागर घाट के पास एवं रेल्वे स्टेशन बडवाह, बलवाडा, महु आदि स्थानों पर किया परन्तु उनकी कोई जानकारी नहीं मिली। दोनों घटना दिनांक से फरार होकर छिपते-फिरते रहने से पूरा शक होने पर मुखबिरों को अनिल एवं संजु की तलाश हेतु लगाया गया। परिणामस्वरूप मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई की अनिल रिलायंस पेट्रोल पंप के पास सनावद रोड पर देखा गया है।

सूचना पर तत्काल कार्यवाही करते हुए पुलिस टीम द्वारा घेराबंदी कर संदेही को रिलायंस पेट्रोल पंप के पास सनावद रोड से पकडा गया। अनिल द्वारा पूछताछ की गई तो उसके द्वारा बताया गया कि करीब 03 साल पहले मृतक राजेश भील ने 1200 रुपये उसकी पत्नी को देने हेतु दिये थे, किन्तु उसकी पत्नी ने उक्त पैसे लेने से इंकार कर दिया तथा पैसे खर्च हो जाने पर मृतक राजेश भील को पैसे नही दे पाने के कारण मृतक राजेश भील आये दिन उसके साथ झगडा मारपीट करता रहता था, तथा घटना दिनांक को भी उसके (अनिल) के साथ मृतक राजेश ने झगडा किया एवं 150 रुपये निकाल लिये जब आरोपी अनिल ने मृतक राजेश से 150 रुपये वापस मांगे तो फिर से मृतक राजेश आरोपी अनिल के साथ झगडा करने लगा। इसी कारण आरोपी ने मृतक राजेश के सिर में पत्थर मारकर चोट पहुंचाकर मृतक राजेश की हत्या कर दी एवं घटना को छुपाने के लिये संजु उर्फ टुण्डा के साथ मिलकर मृतक के शव को चिरुल के पेड के पास से घसीटकर गड्डे में फेंक दिया।

घटना में संलिप्त आरोपी संजु उर्फ टुण्डा घटना दिनांक से फरार है। जिसकी गिरफ्तारी होना शेष है। गिरफ्तार आरोपी अनिल पिता धुमसिंह जाति भील उम्र 20 साल निवासी काटकुट फाटा फारेस्ट नाके के पास बडवाह।कार्यवाही में अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) बड़वाह श्री विनोद दीक्षित एवं थाना प्रभारी बड़वाह श्री प्रकाश वासकले के नेतृत्व में उनि. रामआसरे यादव, उनि. मिथुन चौहान, आर. कपिल मीणा, आर.संदीप विश्वकर्मा, आर.राजु मेहता का विशेष योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!