विद्यालय का वातावरण बच्चों को स्वस्थ, शिक्षित, संवेदनशील, राष्ट्र और समाज के विकास में सहयोग के लिए सक्षम बनाने वाला होना चाहिए :राज्यपाल

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि बचपन से ही बच्चों में वंचित वर्गों की मदद के संस्कार डाले जाने चाहिए। बच्चों में यह भाव और भावना होनी चाहिए कि वंचित वर्ग की जो भी जितनी भी मदद वह कर सकते हैं, उन्हें आगे बढ़ कर करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को स्वयं के अनुभवों से बच्चों में वंचित वर्गों के प्रति संवेदनशीलता और आत्म-निर्भरता की भावनाओं को मज़बूत बनाना चाहिए। अभिभावकों और गुरुजनों का उत्तरदायित्व है कि वे बच्चों को सही और अच्छा आकार देकर समाज का जिम्मेदार नागरिक बनाएँ।

राज्यपाल पटेल हेमा हायर सेकेंडरी स्कूल के स्वर्ण जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे।Governor MP पटेल ने कहा कि बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। बच्चों का जीवन, समग्र विकास और उनकी आरोग्यता, समर्थ, सक्षम और समृद्ध राष्ट्र निर्माण का महत्वपूर्ण पहलू है। सरकार, समाज, शिक्षकों और पालकों की सामूहिक जिम्मेदारी है कि बच्चों की उचित देखभाल और हिफाजत करें, जिससे उनका समग्र विकास हो।

परिवार और विद्यालय में जैसे संस्कार मिलते हैं, बच्चे उसी में ढल जाते हैं, अतः शिक्षकों को अच्छी आदतों के लिए बच्चों के साथ ही अभिभावकों का भी उचित दिशा-दर्शन करना चाहिए।राज्यपाल पटेल ने कहा कि विद्यालय का वातावरण बच्चों को स्वस्थ, शिक्षित, संवेदनशील, राष्ट्र और समाज के विकास में सहयोग के लिए सक्षम बनाने वाला होना चाहिए। विद्यालय में बच्चों की सहभागिता से सामाजिक-सरोकारों, स्वच्छता, पर्यावरण, ऊर्जा, जल-संरक्षण, स्वास्थ्य-चेतना, श्रम और सेवा-संस्कारों के अनुभव और आनंद से परिचित कराने वाले आयोजन किए जाने चाहिए।

किताबें व्यक्ति की सच्ची मित्र होती है अत: बच्चों को कोर्स के साथ ही साहित्य, संस्कृति और अन्य शिक्षाप्रद पुस्तकों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।राज्यपाल पटेल ने कहा कि वर्तमान आधुनिक, प्रौद्योगिकी और तकनीकी के युग में नई पीढ़ी पर पश्चिम सभ्यता का प्रभाव अधिक तेजी से देखने को मिल रहा है। हमारा दायित्व है कि अपनी संस्कृति और सभ्यता से बच्चों को अवगत कराते रहें। उन्होंने कहा कि हमारा देश दुनिया में ज्ञान और समृद्धि का प्रतीक था।

आपसी कलह के कारण हमारा देश गुलाम हो गया था। हमारे देश के वीर-वीरांगनाओं के त्याग और बलिदान से मिली आज़ादी के संघर्ष से परिचित कराने के लिए आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि युवा और भावी पीढ़ी को हमारी संस्कृति की महत्ता, गौरवशाली परंपराओं से परिचित और पश्चिमी सभ्यता के भौतिकवाद की समस्याओं और दुष्परिणामों के बारे में समझाना चाहिए।हेमा सोसायटी के अध्यक्ष फिलिप पनिकर ने बताया कि विद्यालय की स्थापना 16 जुलाई, 1973 को 16 बच्चों और सांस्कृतिक भवन के तीन कमरों से हुई थी। आज विद्यालय 3.4 एकड़ भू-क्षेत्रफल में 1300 विद्यार्थियों के शिक्षण का कार्य कर रहा है। उन्होंने बताया कि विद्यालय में विद्यार्थियों को नवाचार, पर्यावरण जागरूकता और बागवानी का प्रशिक्षण भी दिया जाता है।

दिव्यांग बच्चों के सहयोग, वृद्धाश्रम भ्रमण और वंचित वर्ग के साक्षरता प्रयासों में भी सहयोग किया जाता है। स्वागत उद्बोधन विद्यालय की प्राचार्या श्रीमती पूनम शर्मा, आभार प्रदर्शन हेमा सोसायटी की संयुक्त सचिव श्रीमती पी.एस. प्रतिभा ने किया। राज्यपाल श्री पटेल का स्वागत पौधा, शॉल, श्रीफल और स्मृति-चिन्ह भेंट कर सोसायटी के सचिव श्री किशोर पिल्लई ने किया और निर्देशिका की प्रथम प्रति भेंट की। कार्यक्रम का शुभारंभ वेद मंत्रों के साथ दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया।

पुलिस ने लूट का किया पर्दाफाश

बड़वानी। पुलिस द्वारा विशेष गठित टीम कर थाना बड़वानी के अंतर्गत हुई 36 लाख 50 हज़ार की लूट के मामले का 06 घंटे के अंदर पर्दाफाश किया एवं षडयंत्र रच कर झूठा लूट का मामला बनाकर पुलिस को गुमराह करने वाले फरियादी ड्राइवर एवं उसके मालिक को गिरफ्तार कर उनसे 36 लाख 50 हज़ार की नगदी।

विशिष्ट संस्थाओं में पढ़ाने हेतु शिक्षकों ने दी परीक्षा

बड़वानी 03 जून। जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित विशिष्ट विद्यालयों एवं सीएम राईज स्कूल में शैक्षणिक संवर्ग के विभिन्न पदों की पदस्थापना हेतु शिक्षक चयन परीक्षा का आयोजन 03 जून को शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय बड़वानी में किया गया।

सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग निलेशसिंह रघुवंशी से प्राप्त जानकारी अनुसार प्राथमिक शिक्षक हेतु परीक्षा का आयोजन प्रातः 10 से दोपहर 12 बजे तक तथा उच्च माध्यमिक शिक्षक हेतु परीक्षा का आयोजन प्रातः 10 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक किया गया। उन्होने बताया कि उक्त चयन परीक्षा में 457 शिक्षकों ने अपने आवेदन किये थे, जिसमें से 327 शिक्षक परीक्षा में सम्मिलित हुए है।

ग्रामीणों को दी जाये मतदान के दौरान विभिन्न रंगो के मतपत्रो की जानकारी

बड़वानी 03 जून। त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन के तहत एक मतदाता को 4 अलग-अलग रंग के मतपत्र दिये जायेंगे। जिसके आधार पर वह पंच, सरपंच, जनपद पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य का निर्वाचन करेगा। इसकी जानकारी ग्रामीणों को सेंस की गतिविधियों के दौरान दी जाये। जिससे वह अपने मताधिकार का उपयोग बेहतर तरीके से कर सके। शुक्रवार को कलेक्टरेट सभागृह में आयोजित सेंस समिति की बैठक में उक्त निर्देश जिला पंचायत सीईओ एवं सेंस के नोडल अधिकारी अनिल कुमार डामोर ने दी।

बैठक में संबंधित विभागों के पदाधिकारी, जिले में कार्य कर रहे विभिन्न सामाजिक संगठनो के पदाधिकारी उपस्थित थे। बैठक के दौरान जिला पंचायत सीईओ ने बताया कि इस बार त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन के दौरान एक मतदाता को गुलाबी रंग के मतपत्र से जिला पंचायत सदस्य का निर्वाचन, पीले रंग के मतपत्र से जनपद पंचायत सदस्य का निर्वाचन, नीले रंग के मतपत्र से सरपंच का निर्वाचन एवं सफेद रंग के मतपत्र से पंच का निर्वाचन करने हेतु वोट देना है।

यह जानकारी समस्त ग्रामीणों तक पहुंचे इसके लिए हम सबको मिलकर सेंस के तहत नियमित गतिविधियों का संचालन करना है। इसके तहत शिक्षण संस्थानों के पदाधिकारी, विद्यार्थियों को निर्वाचन की प्रक्रिया से अवगत करवाये। जिससे वे अपने घर-परिवार ग्राम के सदस्यो को मतदान के लिए प्रोत्साहित कर सके। इसी प्रकार ऐसे शासकीय विभाग जिनका मैदानी अमला सतत् फील्ड में कार्य करता है। जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, कृषि, उद्यानिकी भी मैदानी अमले से सेंस की गतिविधियां करवाये। वही ऐसे कार्यालय जहां पर बड़ी संख्या में ग्रामीणजन नियमित रूप से आते है। जैसे अस्पताल, बैंक, विभिन्न शासकीय कार्यालय में भी सेंस से संबंधित पोस्टर, बैनर लगाये जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!