केवाईसी के नाम पर मोबाइल से करीब 70 हजार रुपये लुटे,खरगोन सायबर पुलिस ने वापस दिलाये

सायबर क्राइम के मामले दिनोदिन बढ़ते जा रहे है। इससे बचने का अच्छा उपाय है सावधानी के साथ रहे और अपनी व्यक्तिगत जानकारी किसी को शेयर ने करें। अगर ऐसा नही कर पाए तो शहर के जैतापुर निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक जैसी लूट होने की सम्भावना हो सकती है। यदि पूरी सावधानी के बाद भी आप धोखाधड़ी का शिकार हो जाते है। तो जितनी जल्दी हो सके, सेवानिवृत शिक्षक की तरह पुलिस की सहायता मांगे। अभी हाल ही 1 जून को जैतापुर के सेवानिवृत्त शिक्षक के मोबाइल पर केवायसी की एक्सपायरी होने का संदेश (मैसेज) आया। अज्ञात मोबाइल नम्बर पर कस्टमर केयर से बात करने की सूचना मैसेज में ही दी गई।

जैसे ही सेवानिवृत शिक्षक ने अज्ञात नम्बर पर बात कि तो बताया गया कि माय जिओ एप्प के माध्यम से टॉपअप रिचार्ज करने को कहा गया। उनके द्वारा बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम से 10 रुपये का रिचार्ज करवाया गया। लेकिन रिचार्ज अंसक्सेसफुल हो गया। कस्टमर केयर द्वारा अन्य किसी बैंक के एटीएम से रिचार्ज करने को कहा गया तो शिक्षक ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से पुनः रिचार्ज किया गया। बस इसके बाद उनके दोनों बैंक के एकाउंट से रुपये निकलने के मैसेज आ गए। पहले बैंक ऑफ इंडिया के खाते से 46818 और फिर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के खाते से 23000 हजार रुपये की राशि मि धोखाधड़ी हुई। सबसे अलग बात ये हुई कि ये राशि फ्लिप्कार्ड पेमेंट में गई। राशि जैसे ही कटी वैसे ही सारे मैसेज अपने आप ततकाल डिलीट भी हो गए और मोबाइल भी बंद हो गया। ऐसी आपात स्थिति में शिक्षक ने पुलिस से संपर्क किया। सायबर पुलिस ने एसपी श्री धर्मविरसिंघ यादव के निर्देशन और एएसपी श्री जितेंद्र पंवार और श्री मनीष खत्री के मार्गदर्शन में कार्य प्रारम्भ किया।

सायबर टीम ने हर बारीक से बारीक बातों और तथ्यों पर विचार करते हुए बैंक स्टेटमेंट की जांच की गई। इसी दौरान फ्लिप्कार्ड के नोडल अधिकरी से संपर्क कर ततकाल फ्लिप्कार्ड के माध्यम से खरीदी किये आयटम को ब्लॉक कर राशि आवेदक के खाते में राशि वापस कराई गई। इस कार्यवाही में सायबर प्रभारी उपनिरीक्षक सुदर्शन कुमार, उपनिरीक्षक दीपक यादव प्रधान आरक्षक आशीष अजनारे, अभिलाष मगन, विजेएन्द्र सोनू वर्मा का विशेष महत्वपूर्ण योगदान रहा।

बड़वानी। नगर का हगरिया फलिया अब हुआ रूपनगर वार्ड।जी हा बड़वानी जिले में स्थित हरिया फलिया नाम के गांव को बदल कर रूप नगर वार्ड रखा गया। कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा एवं जिला न्यायाधीश अमित सिंह सिसोदिया ने वार्ड में पहुंचकर किया पहुंच अभियान का शुभारंभ. मौके पर बने आधार कार्ड से खुश है ग्रामीण

गांव का नाम बदलकर रूप नगर वार्ड रखा गया

एसपी ने फ़ोर्स को सिखाया उपद्रव को कैसे काबू करें,डीआरपी लाइन पर बलवा ड्रील अभ्यास का हुआ आयोजन

10 अप्रैल को खरगोन शहर में हुए उपद्रव तथा आगामी त्रिस्तरीय पंचायत व नगरीय निकाय आम चुनाव को ध्यान में रखते हुए पुलिस फ़ोर्स को हर तरह की चुनोती का सामना करने के लिए रविवार को खरगोन पुलिस अधीक्षक श्री धर्मवीर सिंह के मार्गदर्शन में अति. पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) श्री जितेन्द्र सिंह पंवार व अति. पुलिस अधीक्षक (शहर) श्री मनीष खत्री के नेतृत्व में खरगोन जिले के भीकनगांव एवं खरगोन डिवीज़न के पुलिस बल को बॉडीगॉर्ड, हेलमेट, एलबोगॉर्ड, शील्ड, केन, लाठी, टियर-स्मोक गैस, रायफल आदि का प्रयोग कानून एवं व्यवस्था को संभालने के लिए किस प्रकार किया जाता है।

उसके बारे में विस्तृत से समझते हुए बलवा ड्रील कर अभ्यास कराया गया। बलवे के दौरान क्या-क्या सावधानिया रखनी होती है और पुलिस के दायित्वों का सही इस्तेमाल करते हुए दंगे अथवा उपद्रव को कैसे काबू किया जाता है। इस संबंध के पुलिस कप्तान द्वारा मौजूद फ़ोर्स को समझाया।

इस बलवा ड्रील अभ्यास में एसडीओपी भीकनगांव श्री संजू चौहान, एसडीओपी खरगोन श्री रोहित अलावा, डीएसपी अंजलि रघुवंशी, डीएसपी राकेश आर्य, डीएसपी वर्षा सोलंकी, रक्षित निरीक्षक रेखा रावत, थाना प्रभारी कोतवाली एमएल मंडलोई, थाना प्रभारी भीकनगांव सौरभ बाथम, थाना प्रभारी बेड़िया गोपाल निगवाल, थाना प्रभारी बरुड गेहलोद सेमलिया, थाना प्रभारी उन गीता सोलंकी आदि के अलावा पुलिस लाइन व पुलिस अधीक्षक कार्यालय का स्टाफ शामिल रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!