शिक्षा प्रसारक समिति द्वारा समवेत रूप से दीर्घकालिक शिक्षकों तथा सेवा भावी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों का किया गया सम्मान

सेंधवा। “शिक्षक घर में, समाज में कक्षा में, मैदान में, वह हर जगह शिक्षक होता है। जिसमें स्वाभिमान व आत्मविश्वास है, वह निश्चित रूप से सफलता प्राप्त करेगा। हर बच्चे में एक विशिष्ट गुण होता है और वह उसी काबिलियत के आधार पर आगे बढ़ता है। यह बातें पालकों को समझने की जरूरत है। आज शिक्षा के व्यावसायीकरण के इस युग में शिक्षा प्रसारक समिति द्वारा निम्न शुल्क में उच्च शिक्षा प्रदान करना, बड़े ही गर्व की बात है।

ये विचार डॉ. शिवनारायण यादव पूर्व उपकुलपति ने शिक्षा प्रसारक समिति के सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि की आसंदी से व्यक्त किये। कार्यक्रम के विशेष अतिथि डॉ. मनीष पांडेय तहसीलदार सेंधवा ने कहा कि शिक्षक अपने विचारों से समाज में क्रांति उत्पन्न करता है जिससे समाज में लाभकारी परिवर्तन होते है। उन्होंने कहा कि शिक्षक पद का उद्देश्य नहीं है कोई शांत भवन में रहना, वरन् उस सीमा तक जाना, जहाँ तक कोई राह न हो।

कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती पूजन एवं स्वागत नृत्य के द्वारा हुआ। संस्था अध्यक्ष- बी. एल. जैन ने संस्था के पूर्वजों को याद करते हुए समिति की विगत 67 वर्षों की गतिविधि से अवगत कराया एवं कहा कि यह संस्था सेवाभावी संस्था है जो विद्यार्थियों के सर्वागिण विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

संस्था यहाँ कार्य करने वाले कर्मचारियों को अपने परिवार का हिस्सा मानती है। पूर्व अध्यक्ष पीरचंद मित्तल ने कहा कि हमारी संस्था का उद्देश्य कम शुल्क में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है।

कार्यक्रम में सम्मानित शिक्षक मीनाक्षी शर्मा, किरण नाईक, भारती नाईक, हेमन्त खेडे, गायत्री गुप्ता, सुनंदा विन्चुरकर, मंगला मोरे विगत 25 से 35 वर्षो से सेवारत है ! सम्मानित चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी शोभा वर्मा, आशा जोशी, अनीता निकुम, अनिल शर्मा, छाया बोरसे पिछले 25 से 30 वर्षो से सेवारत है।

सम्मानित शिक्षकों एवं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के प्रशस्ती पत्रों का वाचन समिति सदस्य प्रेमचंद सुराणा द्वारा किया गया। कार्यक्रम में पूर्व अध्यक्ष- दिलीप कानूनगो, उपाध्यक्ष रविंद्रसिंह मंडलोई, सचिव शैलेष कुमार जोशी, कोषाध्यक्ष- गोविंद मंगल, मनोज कानूनगो, प्रह्लाद यादव, अशोक सकलेचा, मोहनशरण खंडेलवाल, विष्णुप्रसाद सिव्हल, शरद कानूनगो सहित अन्य सदस्यों ने उपस्थित सभी शिक्षकों को भेंट देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन विद्यालयीन विद्यार्थी ऋषभ सोलंकी व फजिला डोसानी द्वारा किया गया।

आभार संस्था सचिव शैलेष कुमार जोशी द्वारा माना गया। कार्यक्रम के दौरान के.सी. पालीवाल, हेमंत खेडे, देवेन्द्र कानूनगो, राहुल मंडलोई तथा समस्त शिक्षक व शिक्षीकाएं मौजूद थे।

हिमांशु मालाकार की रिपोर्ट

निवाली कालेज में हर्षोल्लास से टीचर्स डे मनाया गया

निवाली। शासकीय महाविद्यालय में विद्यार्थियों ने टीचर्स डे शानदार अंदाज में मनाया, सर्वप्रथम मंचासिन स्वागत के लिए अलग अलग टीचर की शैली के अनुसार सोंग्स बजाकर बैच लगाकर स्वागत किया गया। तत्पश्चात प्रभारी प्राचार्य प्रो अशोक चौहान ने आशिर्वचन स्वरुप देते हुए कहा कि आप सभी अच्छी स्टडी के साथ साथ उत्कृष्ट कौशल से अपना करियर बनाएं और महाविद्यालय में इसी प्रकार से अनुशासन बनाए रखे।

प्रो जी आर मोरे ने कहा कि यहां के बच्चों के रग रग में कौशल के साथ साथ लोकल संस्कृति भी भरी है। प्रो चांदनी गोले ने बच्चों को करियर बनाने के लिए प्रेरित किया, डॉ फूलचंद किराड़े ने विद्यार्थियों से कहा कि किसी भी लक्ष्य प्राप्ति के लिए दृढ़ संकल्प करना होगा।

डॉ सुल्तान मोरे ने स्व लिखित कविताओं के माध्यम से विद्यार्थियों को उत्प्रेरित किया, लाइब्रेरियन राम किशोर सकवार ने देश के सफलतम व्यक्तियों की मिसाल देते हुए कहा कि स्टूडेंट्स लाइफ़ में ज्यादा समय स्टडी को दीजिए सफलता आपके कदम चूमेगी, डॉ सुधा टेटवाल ने कहा शासन के अमृत महोत्सव के कार्यक्रम वर्ष भर चलेंगे, आफिस स्टाफ के रवि नामदेव ने बच्चों से कहा कि आप ऐसा काम करें कि आपको आपके टीचर्स एवं समाज के लोग जानें.लेब टेक्नीशियन शारदा खरते ने कहा कि आप लोग जो भी कार्य करें पूर्ण विश्वास के साथ करें सफलता जरूर मिलेगी।

लेब टेक्नीशियन विशाल सूर्यवंशी ने कहा कि पढ़ाई के साथ अच्छे नागरिक बनें और अच्छे समाज का निर्माण करें. प्रो लखन पटवा ने प्रेरणा देते हुए आशिर्वचन कहे, प्रो अनारसिंह किराड़े सर ने डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन परिचय पर प्रकाश डालते हुए उनके अच्छे गुणों का अनुसरण करें ।

विद्यार्थियों ने शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रोफेसर्स को उपहार भेंट किए । इस शिक्षक दिवस के कार्यक्रम की व्यवस्था मुख्य रूप से आयान मंसूरी,अलफीया सेख, प्रियंका मंडलोई,शानु राठौड़,मनिषा रावत, स्नेहा चौहान, शिवकन्या मंडलोई, रत्ना वास्कले, दिपेश निकुम,विनय पिपलोदे, सुरेश अलावे, भुमिका वाणी,साक्षी मोरे, यससवी गीरनार,निकीता राठौड़,राजु डुडवे,केतकसा शेख़ एवं अन्य सभी विद्यार्थियों ने तैयारी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!